India

सरकार का बड़ा कदम, चावल और गन्ने से बनाया जाएगा सैनिटाइजर, पेट्रोल की गुणवत्ता के लिए भी उठाये कदम

Sanitizer will be made from rice and sugarcane, Sanitizer, rice, sugarcane, FCI, food corporation of India, Sugarcane-Rice Paddy Field

Sanitizer will be made from rice and sugarcane: भारत सरकार ने एफसीआई (FCIFood corporation of India) को अधिक मात्रा में जो चावल देश के भंडारों में उपलब्ध है उनका प्रयोग अब अल्कोहल बेस्ड हैंड सेनीटाइजर और ब्लेंडर पेट्रोल बनाने में किया जा सकेगा यहां तक कि देश की चीनी मिलों ने भी करोना के दौर में मांग को देखते हुए 100000 लीटर प्रतिदिन की औसत दर से हैंड सैनिटाइजर का उत्पादन शुरू कर दिया है!

जानिए चावल और गन्ने से कैसे बनेगा पेट्रोल

Sanitizer will be made from rice and sugarcane, Sanitizer, rice, sugarcane, FCI, food corporation of India, Sugarcane-Rice Paddy Field

Sugarcane-Rice Paddy Field

भारत सरकार ने 2003 में ABP प्रोग्राम के अंतर्गत पेट्रोल में एथेनॉल को मिलाने का निर्णय किया था जिससे कि प्रदूषण को कम किया जा सके, कच्चे तेल के आयात को सब्सिडी दी जा सके और विदेशी मुद्रा बचत को बढ़ाया जा सके! इसके अलावा 2018 में जैव इंधन के संदर्भ में राष्ट्रीय नीति में कहा गया कि जब भी कृषि फसल की पैदावार राष्ट्रीय अनुमान से ज्यादा हो तो उसका प्रयोग इथेनॉल बनाने के लिए किया जा सकता है जिसके लिए एनबीसीसी (the National Biofuel Coordination Committee (NBCC) से अनुमति लेनी होगी!

जानिए इथेनॉल क्या होता है और इसे पेट्रोल में क्यों मिलाया जा रहा है

इथेनॉल एक तरल पदार्थ होता है 95 % शुद्धता पर इसे एल्कोहल विषाणु तत्वों को मिटाने के लिए प्रयोग किया जाता है और 99 परसेंट शुद्धता पर इसे पेट्रोल ने प्रयोग किया जा सकता है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Quis autem vel eum iure reprehenderit qui in ea voluptate velit esse quam nihil molestiae consequatur, vel illum qui dolorem?

Temporibus autem quibusdam et aut officiis debitis aut rerum necessitatibus saepe eveniet.

Copyright © 2020 By Frustrated Indian

To Top