Technology

भारतीय रेल में अलग अलग रंगों के डिब्बों का क्या मतलब होता है ??

difference between ICF and LHB coaches, Indian railway, trains, India, colors

अगर आपने कभी भारतीय रेल में यात्रा करी है तो अवश्य ही आपने अलग-अलग रंगों के बोगियों को देखा होगा।  तो क्या आपने कभी सोचा है कि इन अलग-अलग रंगों की बोगियों का क्या महत्व होता है और इन पर जो अलग अलग कर निशान होते हैं उनका क्या मतलब होता है।तकनीकी तौर पर देखा जाए तो भारतीय रेल केवल दो तरह की बोगियों का प्रयोग करती हैं जिसमें एक है ICF coaches और दूसरा है LHB coaches .

तो हम पहले जानते हैं ICF coaches के बारे में

ICF coaches का मतलब होता है Integrated coach factory . इन बोगियों का डिजाइन रेल कोच फैक्ट्री चेन्नई द्वारा सन 1950 में स्विट्जरलैंड की एक कंपनी Swiss car and elevator manufacturing के सहयोग से तैयार किया गया था। 19 जनवरी 2018 को इस तरह की आखिरी बोगी का उत्पादन हुआ था अब भारतीय रेल इस तरह के डिब्बों का सिर्फ रखरखाव करती है। इन बोगियों की अधिकतम गति सीमा 140km/hr थी परंतु ट्रैक्स की खस्ताहाल को लेकर इन ट्रेनों को केवल 110 km/hr की रफ्तार से ही दौड़ाया गया था।  इसका एक और अन्य कारण यह था कि इन बोगियों में सस्पेंशन इतना अच्छा नहीं था की वे ज्यादा गति पर लगने वाले झटकों को झेल सके।

ICF coaches को बंद करने का प्रमुख कारण इनका वजन में बहुत ज्यादा भारी होना था और इनका Centre of gravity point काफी ऊपर होता था जिस वजह से किसी दुर्घटना के दौरान यह डिब्बे एक दूसरे के ऊपर चढ जाते थे जिस वजह से जान माल का काफी ज्यादा नुकसान होता था।

Pic credit by: arunachal24.in , Due to the high point center of gravity coaches are overlapping to each other after accident

अब जानते हैं LHB coaches के बारे में

LHB coaches का मतलब होता है Linke-Hofmann-Busch. यह जर्मनी की एक कंपनी थी जिसे बाद में सन 1998 में Alstom ने खरीद लिया था।  सबसे पहले जर्मनी से ऐसे 24 AC डिब्बे मंगाए गए थे।  जो शताब्दी एक्सप्रेस में चलाए गए थे। इसके बाद इन बोगियों का उत्पादन भारत की रेल कोच फैक्ट्री कपूरथला में शुरू किया गया।  इन बोगियों की अधिकतम ऑपरेशनल स्पीड 160km/hr है जिसे 200km/hr तक ले जाया जा सकता है हालांकि इनका ट्रायल केवल 180km/hr तक ही किया गया है। इन बोगियों की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह वजन में काफी हल्के होते हैं जिस वजह से इनका Centre of gravity point काफी नीचे होता है जिसके कारण किसी भी दुर्घटना की स्थिति में इस बात की आशंका बहुत कम होती है कि यह एक दूसरे के ऊपर चढ़े। इससे जान माल का नुकसान काफी कम होता है।

LHB Coaches had not overlapped in accident

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top
// Infinite Scroll $('.infinite-content').infinitescroll({ navSelector: ".nav-links", nextSelector: ".nav-links a:first", itemSelector: ".infinite-post", loading: { msgText: "Loading more posts...", finishedMsg: "Sorry, no more posts" }, errorCallback: function(){ $(".inf-more-but").css("display", "none") } }); $(window).unbind('.infscr'); $(".inf-more-but").click(function(){ $('.infinite-content').infinitescroll('retrieve'); return false; }); $(window).load(function(){ if ($('.nav-links a').length) { $('.inf-more-but').css('display','inline-block'); } else { $('.inf-more-but').css('display','none'); } }); $(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });