Uncategorized

1971 के युद्ध में चीन ने नहीं की थी पाकिस्तान की मदद और फिर रूस ने दी दोस्ती की मिसाल …

1971 war india-pakistan, 1971 war, china, america, Russia, un, muktivahini sena, bangladesh
China did not help Pakistan in 1971 war and then Russia gave example of friendship

China did not help Pakistan in 1971 war and then Russia gave example of friendship: युद्ध अप्रैल 1971 में शुरू हुआ जब पाकिस्तान ने लगभग 9 मिलियन शरणार्थियों को भारत में धकेल दिया, जो संख्या और क्रूरता में हिटलर के नरसंहार के लबभग बराबर आता है! क्योकि हिटलर ने इतनी ही लगभग संख्या में यहूदियों के साथ किया था! अप्रैल 1971 के युद्ध को ऑपरेशन सर्चलाइट कहा जाता था!

मुक्तिवाहिनी को भारत की मदद

26 नवंबर 1971 को भारत पूर्वी पाकिस्तानी यानि आज का बांग्लादेश में मुक्ति वाहिनी सेना की मदद के लिए घुस गया था! जिसके चलते पाकिस्तान ने 3 दिसंबर, 1971 को जवाबी कार्रवाई की! पाकिस्तान उस समय उम्मीद कर रहा था कि चीन और अमेरिकी के समर्थन और साथ ही साथ संयुक्त राष्ट्र इस पर हस्तक्षेप करे! लेकिनरूस-अमेरिका शीतयुद्ध के कारण भारत-पाकिस्तान के इस मसले में सीधे तौर पर हस्तक्षेप नहीं करना चाहते थे क्योकि इसके परिणाम और ज्यादा खतरनाक हो सकते थे!

भारत की युद्ध रणनीति

भारत ने अपनी युद्ध निति का बहतरीन परिचय देते हुए अपने सिर्फ 2000 सैनिक खोये और जबकि पाकिस्तान ने अपने 6000 सैनिक खोये! 1971 में युद्ध समाप्त होने के एक दिन बाद, तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी इतनी शांत थीं कि जब उनके निजी चिकित्सक उनके पास गए तो वह अपना बिस्तर बदल रही थीं!

1971 war india-pakistan, 1971 war, china, america, Russia, un, muktivahini sena, bangladesh

1971 war india-pakistan: Pakistan Commander Surrender

चीन का बहाना

चीन हमेसा पाकिस्तान का सहयोगी रहा है! लेकिन 1971 के युद्ध में जब चीन को भारत के साथ लगती अपनी सीमा के साथ सशस्त्र बलों को जुटाने के लिए अमेरिका द्वारा प्रोत्साहित किया गया! तो चीन ने कहा था कि भारतीय सीमा पर प्रबल स्थानों (जहाँ से चीन भारत पर हमला कर सकता था) की कमी के कारण हम अटैक नहीं कर सकते और उस समय चीन ने तत्काल युद्ध विराम की मांग की!

भारतीय नौसेना का अद्भुत कौशल

कराची बंदरगाह पर 4 दिसंबर की रात को भारत द्वारा हमला किया गया था जिसमें पाकिस्तानी विध्वंसक पीएनएस खैबर और माइंसवेपर पीएनएस मुहाफिज को नष्ट कर दिया गया था और पीएनएस शाहजहां को बहुत नुकसान हुआ था! इस दिन को भारत भारतीय नौसेना दिवस क रूप में मनाता है!

भारत को रुसी मदद

1971 war india-pakistan, 1971 war, china, america, Russia, un, muktivahini sena, bangladesh

1971 war india-pakistan US-Russia Face off

ऐसा माना जाता है की पाकिस्तान की मदद के लिए इंग्लैंड और अमेरिका ने अपने युद्धपोतों को हिन्द महासागर की और रवाना किया था लेकिन सही समय पर रूसी पनडुब्बियों ने अमेरिकी जहाज़ों को रोककर रखा जिससे भारत को दो दिन का समय मिल गया! इस युद्ध में रूस का भारत को समर्थन भारत-रूस की गहन मित्रता को दर्शाता है!

बांग्लादेश का जन्म

यह इतिहास में सबसे छोटे युद्धों में से एक था जो केवल 13 दिनों तक चला था! भारत ने पाकिस्तानी सेना को परास्त कर दिया! पाकिस्तान को भारत ने उसकी पूर्वी कमान को 16 दिसंबर 1971 को ढाका में 90000 युद्धबंदियों क साथ आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर किया! इसी के बाद बांग्लादेश का गठन हुआ! जो पहले पूर्वी पाकिस्तान के नाम से जाना जाता था आज बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है!

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Quis autem vel eum iure reprehenderit qui in ea voluptate velit esse quam nihil molestiae consequatur, vel illum qui dolorem?

Temporibus autem quibusdam et aut officiis debitis aut rerum necessitatibus saepe eveniet.

Copyright © 2020 By Frustrated Indian

To Top