Uncategorized

अमेरिका द्वारा चीन का झूठ पकड़ा गया, सैटेलाइट से किया खुलासा …

China stopped Mekong river water exposed by America: यह बात तब की है जब चीन कोरोना जैसी महामारी से झूझ रहा था! फरवरी माह में जब चीनी विदेश मंत्री ने लाओस का दौरा किया तब उन्होंने देखा की वहां की जनता सूखे से ग्रस्त है! इसे लेकर चीनी विदेश मंत्री का कहना था की उनके देश भी सूखे से प्रभावित है!

china, america, mekong river, laos, combodia, american think tank, satellite, water, drought

Pic Credit by: aseanup

जानिए चीन की जल नीति

तीन दशकों से चीन मेकांग नदी के ऊपरी बेसिन पर बांधों का निर्माण कर रहा है, जिससे देशों को चिंता है कि चीन एक दिन बांध बंद कर सकता है। नए आंकड़ों से पता चलता है कि 2019 में छह महीने के लिए, जबकि चीन में औसत से अधिक वर्षा हुई , उसके बांधों ने पहले से कहीं अधिक पानी अपने फायदे के लिए वापस ले लिया – जिससे नीचे के देशों को एक अभूतपूर्व सूखे का सामना करना पड़ा। ये नए निष्कर्ष इस बात की पुष्टि करते हैं कि कितने लोगों को लंबे समय से संदेह था: चीन पहले की तुलना में बहुत अधिक पानी लगा रहा है और जल स्तर में अनियमित और विनाशकारी बदलाव ला रहा है।

अमेरिका द्वारा चीन का झूठ पकड़ा गया!

china, america, mekong river, laos, combodia, american think tank, satellite, water, drought

A narrow section of water flowed through the dried-out riverbed of the Mekong near Sangkhom, Thailand, in January. Pic Credit By: Nytimes

सच्चाई तब सामने आयी जब अमेरिका के एक थिंक टैंक ने स्टडी की तो सॅटॅलाइट के द्वारा पता चला के मेकाँग नदी में बहुत सारा पानी है और इसके बावजूद भी कम्बोडिया और थाईलैंड जैसे देशो में सूखा पड़ रहा है! नई योर्क्स टाइम्स के अनुसार, अमेरिकी वैज्ञानिकों के नए शोध से पहली बार पता चलता है कि चीन, जहां मेकांग डेल्टा में पानी की कमी की कोई समस्या नहीं है अमेरिकन थिंक टैंक ने चीन पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा की  बीजिंग के इंजीनियर बांध के द्वारा नदी के प्रवाह को कम करके जल स्तर को नियंत्रित करते हैं जिससे लाओस और कम्बोडिया जैसे देश प्रभावित हो रहे है!

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

Quis autem vel eum iure reprehenderit qui in ea voluptate velit esse quam nihil molestiae consequatur, vel illum qui dolorem?

Temporibus autem quibusdam et aut officiis debitis aut rerum necessitatibus saepe eveniet.

Copyright © 2020 By Frustrated Indian

To Top