India- International Relations

भारत ने बनाई कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए लिंक रोड, लेकिन …

kailash mansarovar, road, BRO, nepal, india, pithoragarh, lipulekh

COVID-19 के खतरे के बीच, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने  8 मई  को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कैलाश मानसरोवर  यात्रा के लिए लिंक रोड का उद्घाटन किया था  उन्होंने 80 किमी की महत्वपूर्ण सड़क का उद्घाटन किया जो लिपुलेख पास को जोड़ती है।

उत्तराखंड में तिब्बत के साथ उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले के धारचूला में  17,000 फीट की ऊंचाई पर है। माउंट कैलाश, जिसे भगवान शिव का निवास माना जाता है  चीन के साथ भारत की सीमा से लगभग 100 किमी उत्तर में स्थित है। पवित्र मानसरोवर झील पहाड़ के पास स्थित है।

यह वही पुराना मार्ग है जिस पर मौसम और ऊंचाई के कारण सफर करना काफी चुनौतीपूर्ण था।  लेकिन अब उसी पुराने मार्ग पर नया रोड बनाया गया है जिससे किसी हल्के वाहन को 5 km रास्ता कम तय करना पड़ेगा और 5 दिन की यात्रा 2 दिन में हो जाएगी।

नए मार्ग में सड़क मार्ग से यात्रा करने के लिए पिथौरागढ़ (दिल्ली से 490 किमी), इसके बाद 130 सड़क यात्रा और 79 किमी या पांच दिन की पैदल यात्रा घाटीबगड़ से लिपुलेख दर्रे जोकि चीन के साथ सीमा लगता है। अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पार चीनी पर 5 किमी का एक और ट्रेक है।

मिली हुई जानकारी के अनुसार, नेपाल इस प्रोजेक्ट का विरोध कर रहा है उनका कहना है की यह नया मार्ग काली नदी के साथ साथ जाता है जो की नेपाल और भारत की सीमा पर है। इसका मार्ग का अंत lipulekh pass पर होता है जो चीन, भारत और नेपाल की सीमा पर पर है। नेपाल इस मार्ग के दक्षिणी हिस्से का अपना बताता है। जिसे कालापानी भी कहते है।

Nepal external ministry statement issued on India’s new mansarovar road

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top
// Infinite Scroll $('.infinite-content').infinitescroll({ navSelector: ".nav-links", nextSelector: ".nav-links a:first", itemSelector: ".infinite-post", loading: { msgText: "Loading more posts...", finishedMsg: "Sorry, no more posts" }, errorCallback: function(){ $(".inf-more-but").css("display", "none") } }); $(window).unbind('.infscr'); $(".inf-more-but").click(function(){ $('.infinite-content').infinitescroll('retrieve'); return false; }); $(window).load(function(){ if ($('.nav-links a').length) { $('.inf-more-but').css('display','inline-block'); } else { $('.inf-more-but').css('display','none'); } }); $(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });